आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन 2022: ABHA Number बनाए, डाउनलोड ABHA App

One Nation One Health Card | पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन | PM Modi Health ID Card Form | आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन | Ayushman Bharat Digial Health ID Card Registration

जैसे कि आप सभी लोग जानते हैं हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा डिजिटल इंडिया मिशन का शुभारंभ किया गया था  इस मिशन के अंतर्गत विभिन्न प्रकार की सेवाओं एवं सुविधाओं का डिजिटलीकरण किया जा रहा है। सरकार द्वारा हेल्थ सेक्टर को भी डिजिटल करने का निर्णय लिया गया है। जिसके लिए सरकार ने आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ किया है। इस मिशन के अंतर्गत प्रदेश के नागरिकों का डाटाबेस तैयार किया जाएगा। जिसके माध्यम से प्रदेश के नागरिक अपना उपचार करवा पाएंगे। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से Health ID Card से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि इसका उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि। तो दोस्तों यदि आप आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का लाभ उठाना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस लेख को अंत तक पढ़े।

Digital Health ID Card 2022

हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 15 अगस्त 2020 को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन लांच करने की घोषणा की गई थी। जिसके पश्चात देश के 6 केंद्र शासित प्रदेशों में मिशन मोड में इस मिशन को आरंभ किया गया था। 27 सितंबर 2021 को इस योजना का पूरे देश के लिए शुभारंभ कर दिया गया है। इस योजना के माध्यम से देश के नागरिकों का स्वास्थ्य रिकॉर्ड का डाटाबेस तैयार किया जाएगा। नागरिकों को एक Health ID Card प्रदान की जाएगी।

  • इस Health ID Card में नागरिकों का हेल्थ डाटाबेस स्टोर होगा। इस डाटाबेस को डॉक्टरों द्वारा नागरिकों की सहमति से देखा जा सकेगा। डेटाबेस में नागरिकों के स्वास्थ्य से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां जैसे कि परामर्श, रिपोर्ट आदि डिजिटल स्टोर की जाएंगी।
  • अब देश के नागरिकों को अपना मेडिकल रिकॉर्ड भौतिक रूप से रखने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इसके अलावा इस मिशन के माध्यम से सभी अस्पतालों एवं डॉ की जानकारी स्टोर की जाएगी। अब देश के नागरिक देश के किसी भी डॉक्टर से घर बैठे परामर्श भी प्राप्त कर सकेंगे। यह योजना स्वास्थ्य क्षेत्र के लिए कल्याणकारी बदलाव लाएगी।
आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की की गई समीक्षा

29 सितंबर 2021 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन कार्यक्रम की समीक्षा की गई। इस कार्यक्रम को सभी नागरिकों तक डिजिटल स्वास्थ्य आईडी प्रदान करने के उद्देश्य से आरंभ किया गया है। इस डिजिटल आईडी में स्वास्थ्य रिकॉर्ड का पूरा विवरण उपस्थित होगा। राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर डिजिटल हेल्थ आईडी का राष्ट्रीय व्यापी रोल आउट किया गया है। इस योजना को 15 अगस्त 2020 को आरंभ किया गया था। अब तक यह योजना पायलट आधार पर संचालित की जा रही थी। इस योजना के अंतर्गत एक लाख से अधिक स्वस्थ आईडी बन चुकी है।

Key Highlights PM Modi Health ID Card 2022

आर्टिकल किसके बारे में है पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2022
किस ने लांच की स्कीम केंद्र सरकार
लाभार्थी भारत के नागरिक
आर्टिकल का उद्देश्य इस योजना का मुख्य उद्देश्य सभी पेशेंट्स के डाटा को डिजिटल स्टोर करना है।
ऑफिशियल वेबसाइट यहां क्लिक करें
साल 2022
स्कीम उपलब्ध है या नहीं उपलब्ध

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ

27 सितंबर 2021 को हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का शुभारंभ किया जाएगा। इस मिशन को आरंभ करने का कार्यक्रम सुबह 11:00 बजे से प्रधानमंत्री कार्यालय से आयोजित किया जाएगा। इस कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री जी के द्वारा देश के नागरिकों को संबोधित भी किया जाएगा। इस योजना के पायलट प्रोजेक्ट की घोषणा 15 अगस्त 2020 को की गई थी। इस समय इस कार्यक्रम को 6 केंद्र शासित प्रदेशों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में संचालित किया जा रहा है। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की तीसरी वर्षगांठ पर इस मिशन का राष्ट्रीय रोलआउट किया जा रहा है। इस योजना को राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा संचालित किया जाएगा।

Health ID Card क के माध्यम से एक्सेस करें स्वास्थ्य सेवाएं

एक सहज ऑनलाइन प्लेटफॉर्म आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के माध्यम से स्थापित किया जाएगा। जिससे कि नागरिकों की गोपनीयता सुनिश्चित करते हुए खुले, इंटरऑपरिएबिल, मानक आधारित डिजिटल सिस्टम का विविध लाभ उठाते हुए डाटा, सूचना और बुनियादी ढांचा सेवाओं की विस्तृत श्रृंखला स्थापित की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत नागरिकों के Health ID Card बनाए जाएंगे। यह स्वास्थ्य रिकॉर्ड उनके स्वास्थ्य खाते के रूप में काम करेंगे। इन रिकॉर्ड को मोबाइल ऐप से भी जोड़ा जाएगा।

इसके अलावा यह मिशन हेल्थ केयर प्रोफेशनल रजिस्ट्री, पारंपरिक चिकित्सा प्रणाली और हेल्थ केयर फैसिलिटी रजिस्ट्री के सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं के लिए भंडार के रूप में कार्यरत रहेगी। हॉस्पिटल, डॉक्टर एवं स्वास्थ्य सेवा प्रदाता इस कार्ड के माध्यम से मरीज से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकेंगे। इस मिशन के माध्यम से हेल्थ इकोसिस्टम के भीतर इंटर ऑपरेबिलिटी भी विकसित होगी। अब देश के नागरिक स्वास्थ्य सेवाओं तक केवल एक क्लिक के माध्यम से पहुंच सकेंगे।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के कॉम्पोनेंट्स

हेल्थ आईडी

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत नागरिकों को एक Health ID Card भी प्रदान की जाएगी। इस आईडी के माध्यम से व्यक्तियों की पहचान करके उनको प्रमाणित करने में एवं उनके स्वास्थ्य रिपोर्ट को कई प्रणालियों एवं हित धारकों तक पहुंचाया जाएगा। यह आईडी बनाने के लिए नागरिकता कुछ बुनियादी विवरण एकत्रित किया जाएगा।

हेल्थ प्रोफेशनल रजिस्ट्री

इस कंपोनेंट के अंतर्गत सभी हेल्थ प्रोफेशनल को पंजीकृत किया जाएगा। जिससे कि उनका डेटाबेस तैयार किया जा सकेगा। इस प्रक्रिया से हेल्थ प्रोफेशनल्स भारत के डिजिटल हेल्थ इको सिस्टम से जुड़ सकेंगे।

हेल्थ फैसिलिटी रजिस्ट्री

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के हेल्थ फैसिलिटी रजिस्ट्री के कॉम्पोनेंट के अंतर्गत सभी अस्पतालों, क्लिनिको, प्रयोगशालाओं, इमेजिन केंद्रों, फार्मेसी आदि को पंजीकृत किया जाएगा। जिससे कि सभी हेल्थ फैसिलिटी को भारत के डिजिटल स्वास्थ्य पारिस्थितिकी तंत्र से जोड़ा जा सके।

हेल्थ रिकॉर्ड्स

इस अभियान के अंतर्गत सभी नागरिकों के हेल्थ रिकॉर्ड का एक डाटाबेस तैयार किया जाएगा। इस हेल्थ रिकॉर्ड को नागरिक जब चाहे जहां चाहे इस्तेमाल कर सकेगा। हेल्थ रिकॉर्ड में मरीज की चिकित्सा से संबंधित सभी जानकारी स्टोर की जाएगी जैसे कि परामर्श, टेस्ट की रिपोर्ट आदि।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन स्टैटिसटिक्स

हेल्थ आईडी 1557334
हेल्थ फैसिलिटीज अप्रूव्ड 1540
डॉक्टर अप्रूव्ड 3208

आरोग्य मंथन 3.0 के अंतर्गत प्रदान की गई आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन से संबंधित जानकारियां

  • 15 अगस्त 2020 को आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन लांच करने की घोषणा हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा की गई थी।
  • यह योजना हेल्थ सेक्टर में एक महत्वपूर्ण कल्याणकारी बदलाव लाने में कारगर साबित होगी।
  • इस अभियान को 6 केंद्र शासित प्रदेशों में मिशन मोड में आरंभ किया गया था।
  • केंद्र शासित प्रदेश में इस योजना के सफल कार्यान्वयन के बाद इस पूरे देश में लांच करने की घोषणा 27 सितंबर 2021 को की गई।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत उपयोगकर्ता का स्वास्थ्य रिकॉर्ड सुरक्षित रूप से संग्रहित किया जाएगा।
  • पहले नागरिकों के पुराने हेल्थ रिकॉर्ड्स खो जाते हैं
  • थे जिसकी वजह से वह सही परामर्श प्राप्त करने में सक्षम नहीं हो पाते थे।
  • अब सभी हेल्थ रिकॉर्ड डिजिटल फॉर्मेट में स्टोर होने की वजह से अपनी सुविधा अनुसार नागरिकों को उपलब्ध करवाए जाएंगे।
  • यह योजना डिजिटल रिवोल्यूशन का एक ऐसा डायमेंशन है जिसका लाभ देश का हर नागरिक उठा सकेगा।
  • इसके अलावा यह योजना नागरिकों के जीवन स्तर को बेहतर बनाने में भी कारगर साबित होगी।
  • स्वास्थ्य प्रोफेशन एवं सुविधाओं को भी एक प्लेटफार्म से इस योजना के माध्यम से जोड़ा जाएगा। जिससे कि देश की जनता बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं का चयन कर सके।
  • इस योजना के कार्यान्वयन से इंक्लूसिव हेल्थ केयर सुनिश्चित होगा।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन से एक ऐसा सिस्टम तैयार किया गया है जिसके माध्यम से मरीज को डॉक्टर से कंसल्ट करने के लिए भौतिक रूप से उपस्थित होने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। मरीजों का उनके घर से ट्रीटमेंट किया जा सकेगा।
  • इस योजना की सफलता के लिए सभी हितग्राहियों को एक साथ आना होगा।

  • इस योजना के माध्यम से नागरिकों को एक Health ID Card प्रदान की जाएगी जिसमें उनका पूरा हेल्थ रिकॉर्ड्स स्टोर होगा।
  • उपचार कराने के लिए देश के नागरिक को किसी पेपर वर्क, रसीद या किसी दूसरे व्यक्ति पर निर्भर नहीं होना पड़ेगा।
  • इस योजना को पहले चरण में 6 केंद्र शासित प्रदेशों में संचालित किया गया था। जो कि अंडमान निकोबार, पुडुचेरी, दादर एंड नगर हवेली दमन एंड दिउ, लक्षदीप, लद्दाख एवं चंडीगढ़ है।
  • हेल्थ आईडी कार्ड में स्टोर किया गया डाटा पूरी तरह से गोपनीय होगा।
  • इस अभियान के माध्यम से प्रदेश के नागरिक विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं से भी जुड़ सकेंगे।
  • गरीब एवं मध्यम वर्ग के इलाज में होने वाली दिक्कतों को भी इस योजना के माध्यम से दूर किया जा सके।
  • टेक्नोलोजी के माध्यम से पूरे देश के अस्पतालों को डिजिटल माध्यम सर connect भी किया जा सकेगा।
  • देश के पिछड़े इलाकों में रहने वाले नागरिक भी Health ID Card के माध्यम से अच्छे से अच्छे डॉक्टर से अपने घर बैठे ट्रीटमेंट प्राप्त कर सकेंगे।
  • इस योजना के माध्यम से समय से डॉक्टर तक मरीज का पूरा हेल्प रिकॉर्ड पहुंचाया जा सकेगा।
  • इमरजेंसी की स्थिति में यह योजना बहुत कारगर साबित होगी।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का उद्देश्य

  • आधुनिक डिजिटल स्वास्थ्य प्रणाली स्थापित करना।
  • कोर डिजिट अस्वास्थ्य डाटा का प्रबंधन करना।
  • स्वास्थ्य रिकॉर्ड के आदान-प्रदान के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा विकसित करना।
  • परिभाषित मानकों के अनुसार आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के साथ एकीकरण सुनिश्चित करके मौजूदा स्वास्थ्य सूचना प्रणाली को मजबूत बनाना।
  • स्वास्थ्य देखभाल की गुणवत्ता सुनिश्चित करना।
  • सभी स्तरों पर शासन की दक्षता एवं प्रभावशीलता बढ़ाना।
  • स्वास्थ्य विभाग का बेहतर प्रबंधन करना जिससे कि स्वास्थ्य डेटा का विश्लेषण और चिकित्सा अनुसंधान किया जा सके।
  • नैदानिक निर्णय समर्थन प्रणालियों का उपयोग को बढ़ावा देना।
  • स्वास्थ्य सेवाओं के प्रावधान में नेशनल पोटेबिलिटी सुनिश्चित करना।
  • यह सुनिश्चित करना कि निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य देखभाल संस्था एवं पेशेवर आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के निर्माण में सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ सक्रिय रूप से भाग ले।
  • सभी राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ्य धारकों द्वारा मानकों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • अंतरराष्ट्रीय मानकों के आधार पर व्यक्तिगत स्वास्थ्य रिकॉर्ड की एक प्रणाली बनाना जिससे कि स्वास्थ्य पेशावरो एवं सेवा प्रदाताओं को मरीज से संबंधित जानकारी प्राप्त हो सके।

One Nation One Health Card 2022 क्या है?

इस मिशन के अंतर्गत प्रधानमंत्री जी द्वारा पीएम Health ID Card की घोषणा की गई है। इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक रोगी को एक आईडी कार्ड दिया जाएगा। जिस पर उसका सारा मेडिकल डाटा डिजिटल स्टोर होगा। जैसे कि उसकी प्रशिक्षण, रिपोर्ट, डिस्चार्ज से संबंधित जानकारी आदि। जिसकी वजह से अब पेशेंट को अपना इलाज करवाने के लिए भौतिक रिपोर्ट ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। पेशेंट का सारा डाटा इस हेल्थ आईडी कार्ड में स्टोर होगा और पीएम मोदी Health ID Card 2022 के माध्यम से डॉक्टर पेशेंट का सारा डाटा देख पाएंगे। इस योजना के अंतर्गत अस्पताल क्लीनिक तथा डॉक्टर सभी एक केंद्रीय सरवर से जुड़े होंगे। इस योजना के अंतर्गत Health ID Card लेने वाले नागरिकों को एक यूनीक आईडी दी जाएगी जिसके माध्यम से वह सिस्टम में लॉगिन कर सकेंगे। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा 500 करोड़ का बजट निर्धारित किया गया है।

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन क्या है?

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के अंतर्गत देश के डिजिटल स्वास्थ्य ढांचे को एकत्रित किए जाने का एक प्रयास है। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के अंतर्गत सरकार द्वारा कई ऐसे कदम उठाए जाएंगे जिसके माध्यम से हमारे देश की स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार आए। हेल्थ आईडी कार्ड भी नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन का एक हिस्सा है। जिसके माध्यम से सभी पेशेंट्स का स्वास्थ्य संबंधित डाटा इस आईडी कार्ड में डिजिटल स्टोर किया जाएगा।

इन राज्यों में पहले लागू की जा रही हेल्थ कार्ड योजना

हमारे देश के प्रधानमंत्री जी के द्वारा आधार कार्ड के बाद डिजिटल हेल्थ कार्ड योजना आरम्भ की जा रही है। इस हेल्थ कार्ड के अंतर्गत देश के नागरिको का स्वास्थ्य से जुड़ा सम्पूर्ण विवरण होगा।  इस हेल्थ आईडी कार्ड मिशन को सबसे पहले  6 केंद्र शासित राज्यों (अंदमान निकोबार , चंडीगढ़ , लदाख , लक्षदीप , पुडुचेरी , दादरा नगर हवेली , दमन दीव )   में आरंभ किया जा रहा है इस जगहों में अस्पतालो , क्लिनिक ,डॉक्टरों का रजिस्ट्रेशन शुरू हो गया है और वही पर देश के नागरिको की डिजिटल हेल्थ आईडी बनायीं जाएगी | ये आईडी वेबसाइट के माध्यम से और अस्पतालों के माध्यम से भी बनायीं जा सकती है। जल्द ही इस योजना को पूरे भारत देश में लागू किया जायेगा जिससे देश के सभी नागरिको इस डिजिटल हेल्थ आईडी कार्ड का इस्तेमाल कर सकते है।

पीएम मोदी Health ID Card वेबसाइट के कुछ सेक्शन

पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड के अंतर्गत सभी लाभार्थियों को कई सारी सुविधाएं दी जाएंगी। यह सुविधाएं आवेदन प्रक्रिया पूरी करने पर उनको प्रदान की जाएंगी। हेल्थ आईडी कार्ड बनवाने के बाद लाभार्थी वेबसाइट के सभी डॉक्टरों की यूजर आईडी से डॉक्टर से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते है। इसी के साथ लाभार्थियों को हेल्थ फैसिलिटी रजिस्टर्ड की भी सुविधा प्रदान की जाएगी। जिसके माध्यम से लाभार्थी हॉस्पिटल लैब, क्लीनिक से जुड़ सकते हैं और अपनी यूनीक आईडी ले सकते हैं। इसी के साथ पीएम मोदी हेल्प आईडी कार्ड के माध्यम से लाभार्थी समय समय पर अपना रिकॉर्ड अपडेट कर सकता है।

डाटा गोपनीयता को लेकर आशंका

जैसे कि हमने आपको बताया कि हेल्थ आईडी कार्ड में आपका पूरा मेडिकल डाटा स्टोर होगा। जिसे आप के डॉक्टर एक्सेस कर पाएंगे। इस स्थिति में आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि आपका डाटा गोपनीय है या नहीं। दोस्तों आपको बता दें कि केंद्र सरकार आपके डाटा की गोपनीयता की पूरी जिम्मेदारी ले रही है। इस हेल्थ आईडी कार्ड के माध्यम से आपका डॉक्टर केवल एक बार (one time access) आपका डाटा देख सकता है। यदि आप दोबारा डॉक्टर के पास जाएंगे तो आपके डॉक्टर को आपका डाटा देखने के लिए दोबारा से आपसे एक्सेस लेना होगा। हालांकि यह पूरी तरह से अस्पतालों और नागरिक को की मर्जी है कि वह यह हेल्थ कार्ड ले या फिर नहीं है।

One Nation One Health Card 2022 का विस्तारीकरण

प्रधानमंत्री मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2022 का विस्तारीकरण किया जाएगा। पहले यह हेल्थ कार्ड का डाटा क्लिनिक्स तथा हॉस्पिटल के लिए उपलब्ध जाएगा। जिससे कि डॉक्टर पेशेंट का डाटा डिजिटल एक्सेस कर सकें। इसके बाद पेशन का डाटा मेडिकल स्टोर तथा मेडिकल इंश्योरेंस कंपनी से भी सरवर के माध्यम से साझा किया जाएगा। इस सभी प्रक्रिया में पेशेंट के डाटा की गोपनीयता का पूरा ध्यान रखा जाएगा।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का इको सिस्टम

  • सेंट्रल गवर्नमेंट
  • स्टेट गवर्मेंट
  • प्रोग्राम मैनेजर
  • रेगुलेटर
  • एसोसिएशन
  • डेवलपमेंट पार्टनर्स/एनजीओस
  • Non-profit ऑर्गेनाइजेशन
  • एडमिनिस्ट्रेटर
  • हेल्थ केयर प्रोफेशनल
  • अदर प्रैक्टिशनर्स
  • डॉक्टर्स
  • हेल्थ टेक कंपनी
  • टीपी ए इंस्यूरर्स
  • लैब्स, फार्मेसी, वैलनेस सेंटर
  • हॉस्पिटल क्लीनिक
  • पॉलिसी मेकर
  • प्रोवाइडर
  • एलाइट प्राइवेट एंटिटी
  • हेल्थ केयर प्रोफेशनल

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की पृष्ठभूमि

  • सभी उम्र के नागरिकों के लिए स्वास्थ्य एवं कल्याण के उच्चतम संभव स्तर की प्राप्ति विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य एवं देखभाल सुविधाओं के माध्यम से करना है।
  • जिससे कि प्रत्येक नागरिक बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्राप्त करने में बिना किसी वित्तीय कठिनाई के सक्षम बन सके।
  • इस योजना के कार्यान्वयन के लिए स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा एक कमेटी का गठन किया गया है। जिसके अध्यक्ष श्री जी सत्यनारायण है।
  • इस कमिटी द्वारा राष्ट्रीय डिजिटल स्वास्थ ब्लूप्रिंट तैयार किया गया है इस ब्लूप्रिंट के माध्यम से बिल्डिंग ब्लॉक्स और डिजिटल स्वास्थ्य को व्यापक और सामग्र रूप से लागू करने के लिए एक कार्य योजना तैयार की है।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का विजन

  • स्वास्थ्य सुविधाओं को कुशल बनाना।
  • सभी नागरिकों तक स्वास्थ्य सेवाओं को पहुंचाना।
  • नागरिकों के स्वास्थ्य डेटाबेस को गोपनीय रखना।
  • डेटाबेस को समय पर उपलब्ध करवाना।
  • हेल्थ केयर सुविधाओं को सुलभ बनाना।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के अंतर्गत अवसर

  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ब्लॉकचेन और क्लाउड कंप्यूटिंग जैसी तकनीको का इस्तेमाल करके डिजिटल स्वास्थ्य परिस्थितिकी तंत्र को सुविधाजनक बनाया जा सकता है। इन तकनीकों के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार भी किया जा सकता है। इसके अलावा लागत में कमी करने से लेकर सेवाओं को सुविधाजनक भी इन तकनीकों के माध्यम से बनाया जा सकता है।
  • आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत डिजिटल बुनियादी ढांचे का सफलतापूर्वक उपयोग करके लाभार्थियों की पहचान से लेकर उनको अस्पताल में प्रवेश एवं उपचार करवाने तक एक सूचना प्रौद्योगिकी प्लेटफार्म से एंड टू एंड सेवाएं प्रदान की गई है। इस डिजिटल बुनियादी ढांचे का उपयोग आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के कार्यान्वयन के लिए भी किया जा सकता है। जिससे कि नागरिकों, स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं, सरकार एवं शोधकर्ताओं को सशक्त बनाया जा सके एवम अंतर संचालित स्वास्थ्य प्रबंधन प्रणाली विकसित की जा सके।
  • वर्तमान सार्वजनिक डिजिटल बुनियादी ढांचा जैसे कि आधार, एकीकृत भुगतान इंटरफेस और इंटरनेट, मोबाइल फोन आदि के माध्यम से आयुष्मान भारत डिजिटल मशीन के कार्यान्वयन में सहायता प्राप्त होगी।
  • इसके अलावा डॉक्टरों, स्वास्थ्य सुविधाओं को डिजिटल रूप से पहचानना, इलेक्ट्रॉनिक हस्ताक्षर की सुविधा, गैर आवासीय अनुबंधों को सुनिश्चित करना, कागज रहित भुगतान करना, डिजिटल रिकॉर्ड को सुरक्षित रूप से संग्रहित करना आदि जैसी सुविधाएं इस योजना के माध्यम से प्राप्त होंगी।

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के लाभ

  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के माध्यम से समग्र रूप से स्वास्थ्य सेवाओं वितरण की दक्षता, प्रभावशीलता एवं पारदर्शिता में उल्लेखनीय सुधार किया जा सकेगा।
  • मरीज अपने मेडिकल रिकॉर्ड को सुरक्षित रूप से स्टोर एवं एक्सेस कर सकेगा एवं रिकॉर्ड को उचित उपचार प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं के साथ साझा कर सकेगा।
  • इस योजना के माध्यम से स्वास्थ्य सुविधाओं एवं सेवा प्रदाताओं के बारे में भी अधिक सटीक जानकारी प्राप्त हो सकेगी।
  • इसके अलावा वह टेली परामर्श और ई फार्मेसी के माध्यम से स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ भी प्राप्त कर सकेंगे।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के माध्यम से सार्वजनिक एवं निजी दोनों स्वस्थ सेवाओं का विकल्प प्रदान किया जाएगा। जिसके अंतर्गत निर्धारित दिशानिर्देशों एवं प्रोटोकॉल के माध्यम से नागरिकों तक सुविधा प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के माध्यम से हेल्थ केयर प्रोफेशनल को मरीज की मेडिकल हिस्ट्री के बारे में जानकारी प्राप्त हो सकेगी। जिससे कि मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधा प्रदान की जा सकेगी। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से दावों की प्रक्रिया को डिजिटल बनाना और तेजी से प्रतिपूर्ति को सक्षम करने में भी मदद प्राप्त होगी।
  • इसके अलावा नीति निर्माताओं एवं कार्यक्रम प्रबंधकों के पास डाटा की बेहतर पहुंच होगी। जिससे कि सरकार को विभिन्न प्रकार के निर्णय लेने में सहायता प्राप्त होगी। इसके अलावा भूगोल एवं जनसंख्या आधारित निगरानी और स्वास्थ्य कार्यक्रम एवं नीतियों के कार्यान्वयन करने में भी सहायता प्राप्त होगी।
  • शोधकर्ता भी अध्ययन एवं मूल्यांकन करने में सक्षम हो सकेंगे।
  • इसके अलावा यह योजना शोधकर्ताओं, नीति निर्माताओं एवं प्रदाताओं के बीच एक व्यापक फीडबैक लूट की सुविधा प्रदान करेगी।

नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के अंतर्गत क्या-क्या सुविधाएं प्रदान की जाएंगी?

  • हेल्थ आईडी बनाना
  • हेल्थ इंफॉर्मेशन से संबंधित जानकारी प्राप्त करना
  • कौनसेंट मैनेज करना
  • हेल्थ रिकॉर्ड देखना
  • हेल्थ रिकॉर्ड को हेल्थ आईडी से लिंक करना

NDHM के माध्यम से ध्यान देने योग्य बातें

  • हेल्थ आईडी  सिस्टम -,जिसमे नागरिको की हेल्थ आईडी बनायीं जाएगी।
  • Digi  डॉक्टर – जिसमे सभी डॉक्टरों का यूनिक आईडी होगी और सभी जानकारी होगी।
  • हेल्थ फेसेलिटी रजिस्ट्री – जिसमे सभी हॉस्पिटल ,क्लिनिक , लैब जुड़ सकेंगे और यूनिक आईडी प्राप्त कर सकेंगे। और साथ ही अपनी जानकारी अपडेट कर सकेंगे।
  • पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड जहा पर लोग अपनी स्वास्थय सम्बन्धी जानकारी अपडेट कर सकेंगे।

पीएम मोदी हेल्थ आईडी के अंतर्गत कुछ मुख्य चीज़े

  • इस कार्ड के अंतर्गत लोगो की स्वास्थ्य  संबधी जानकारी जैसे ब्लड ग्रुप , रिपोर्ट्स , डॉक्टर प्रिस्क्रिप्शन और दवाइयों से जुडी जानकारी आदि  होगी।
  • डिजिटल हेल्थ कार्ड 14 डिजिट का होगा।
  • इस कार्ड पर एक यूनिक क्यूआर कोड होगा।
  • देश के लोगो के आलावा भी डॉक्टर , सरकारी और गैर सरकारी अस्पताल ,क्लीनिक, डिपेंसरी आदि सबको जोड़ा जायेगा।
  • बिना यूज़र की जानकारी के डिटेल्स नहीं देखी जा सकती है उनके पास पासवर्ड और OTP होना चाहिए।

पीएम मोदी Health ID Card 2022 विशेषताएं

  • पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2022 के माध्यम से सभी पेशेंट का डाटा डिजिटल स्टोर किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से अब लोगों को अपने मेडिकल रिपोर्ट हर जगह ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। क्योंकि उनकी मेडिकल रिपोर्ट इस आई डी में स्टार्ट होगी जिसे डॉक्टर एक्सेस कर पाएंगे।
  • इस योजना की घोषणा हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर की गई है।
  • पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2021 के माध्यम से किसी भी प्रकार का मेडिकल डाटा कभी भी लोगों के पास से नहीं खोएगा।
  • हेल्थ आईडी कार्ड के माध्यम से समय की भी बचत होगी।
  • इस योजना के लिए सरकार द्वारा 500 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया गया है।
  • प्रधानमंत्री मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2022 के अंतर्गत पेशेंट के डाटा को पूरी तरह से गोपनीय रखा जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से अस्पताल, क्लीनिक तथा पेशेंट एक केंद्रीय सरवर के माध्यम से जुड़े होंगे।
  • यह हेल्थ आईडी कार्ड चिकित्सा क्षेत्र में एक बहुत बड़ी क्रांति लाएगा।
  • इस योजना के अंतर्गत आईडी कार्ड लेने वाले नागरिकों को एक यूनिक आईडी दी जाएगी। उस के माध्यम से वह सिस्टम में लॉगिन कर पाएंगे।
  • सरकार द्वारा हॉस्पिटल तथा नागरिकों को यह विकल्प दिया गया है कि वह अपनी मर्जी के अनुसार हेल्थ कार्ड ले सकते हैं और यदि वे चाहें तो वह हेल्थ कार्ड नहीं ले। हेल्थ कार्ड बनवाना कोई जरूरी नहीं है।
  • हेल्थ आईडी कार्ड का विस्तारीकरण मेडिकल स्टोर तथा हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी तक किया जाएगा।

पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड के मुख्य तथ्य

  • पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड में एक क्यूआर कोड होगा जिसे स्कैन करके हॉस्पिटल तथा क्लीनिक पेशेंट से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • यह जानकारी प्राप्त करने के लिए हॉस्पिटल तथा क्लिनिको को हेल्थ आईडी कार्ड तथा ओटीपी की आवश्यकता होगी जिसके बिना जानकारी नहीं देखी जा पाएगी।
  • पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड में ब्लड ग्रुप, दवाई, रिपोर्ट तथा डॉक्टर से संबंधित सभी जानकारी दर्ज की जाएगी।
  • इस आईडी कार्ड पर 14 डिजिट का एक नंबर होगा जो कि हर एक पेशेंट की यूनीक आईडी होगी।
  • हेल्थ आईडी कार्ड को आधार कार्ड से लिंक करना अनिवार्य है।
  • इस योजना का कार्य वाहन नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के पास है।
  • यह योजना प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के अंतर्गत आती है।

हेल्थ आईडी कार्ड पीएम मोदी 2022 के दस्तावेज़ (पात्रता )

  • इस योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक को भारत का स्थायी निवासी होना अनिवार्य है।
  • आधार कार्ड
  • बैंक पासबुक
  • राशन कार्ड
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के प्रिंसिपल

बिजनेस प्रिंसिपल

  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन वैलनेस केंद्रित एवं वेलनेस संचालित होगा।
  • इस अभियान के माध्यम से देश के नागरिक स्वास्थ्य एवं कल्याण सेवा की एक विस्तृत श्रृंखला का लाभ उठाने के लिए शिक्षित एवं सशक्त बनेंगे।
  • स्वास्थ्य ऐप के पोर्टफोलियो के माध्यम से नागरिकों के अंतर्गत जागरूकता एवं शिक्षा को बढ़ावा दिया जाएगा।
  • यह अभियान समावेशी होगा। इसके अलावा एक विशिष्ट सिस्टम तैयार किया जाएगा जिसके माध्यम से वह नागरिक भी इस अभियान से जुड़ सके जो दूरदराज के क्षेत्रों में रहते हैं।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के माध्यम से नागरिकों के डाटा की गोपनीयता भी सुनिश्चित की जाएगी जिसके लिए एक नेशनल पॉलिसी ऑन सिक्योरिटी ऑफ हेल्थ सिस्टम एंड प्राइवेसी ऑफ पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड भी डिवेलप की जाएगी।
  • सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं का प्रदर्शन एवं जवाबदेही को इस अभियान के माध्यम से मापा जाएगा।
  • आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन का परिस्थितिकी तंत्र ‘बड़ा सोचो, छोटा शुरू करो, तेजी से शुरू करो’ के सिद्धांत के आधार पर बनाया जाएगा। इसके अलावा प्रत्येक बिल्डिंग ब्लॉक को डिजाइन करने के लिए एक न्यूनतम दृष्टिकोण अपनाया जाएगा।

पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2022 के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया

आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको क्रिएट हेल्थ आईडी के लिंक पर क्लिक करना होगा।
आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन
आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन
  • अब यदि आप आधार कार्ड के जरिए हेल्थ आईडी जनरेट करना चाहते हैं तो आपको जनरेट वाया आधार कार्ड से लिंक पर क्लिक करना होगा और यदि आप मोबाइल नंबर के जरिए हेल्थ आईडी जनरेट करना चाहते हैं तो आपको जनरेट वाया मोबाइल के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • यदि आपने आधार कार्ड सिलेक्ट किया है तो आपको अपना आधार नंबर भरना होगा और यदि आपने अपने मोबाइल नंबर सेलेक्ट किया है तो आपको अपना मोबाइल नंबर भरना होगा।
  • अब आपके फोन पर ओटीपी आएगा। आपको यह ओटीपी, ओटीपी बॉक्स में भरना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने फॉर्म खुलकर आएगा जिसमें पूछी गई जानकारी आपको ध्यान पूर्वक भरनी होगी।
  • अब आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • सबमिट के बटन पर क्लिक करने के बाद आपकी हेल्थ आईडी जनरेट हो जाएगा।

हेल्थ आईडी कार्ड में हेल्थ आईडी नंबर से लॉगिन करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको क्रिएट हेल्थ आईडी के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको लॉगिन के बटन पर क्लिक करना होगा।
Health ID Card
  • अब आपके सामने लॉगइन पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपना हेल्थ आईडी नंबर दर्ज करना होगा।
  • अब आपके पास एक ओटीपी आएगा इसे आपको ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • इस प्रकार आपकी लॉगिन प्रक्रिया हो जाएगी।

डीजी डॉक्टर आईडी क्रिएट करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको डी जी डॉक्टर के अंतर्गत दिए रजिस्टर के लिंक पर क्लिक करना होगा।
डीजी डॉक्टर आईडी क्रिएट
  • अब आपको एनरोल के लिंक पर क्लिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको रजिस्टर वाया आधार के लिंक पर क्लिक करना होगा।
PM Health Card
  • अब आपको अपना आधार नंबर दर्ज करना होगा और डिक्लेरेशन पर टिक करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके मोबाइल पर एक ओटीपी आएगा।
  • आपको इस ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपके सामने एक नया फॉर्म खुल कर आएगा।
  • आपको इस फॉर्म में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • उसके पश्चात आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • आपकी डिजी डॉक्टर आईडी जेनरेट हो जाएगी।

मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको नीचे स्क्रोल करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको गेट इट ऑन गूगल प्ले के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
मोबाइल ऐप डाउनलोड
  • जैसे ही आप इस ऑप्शन पर क्लिक करेंगे आपके सामने मोबाइल आप खुलकर आ जाएगा।
  • अब आपको इंस्टॉल के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • मोबाइल ऐप आपकी डिवाइस में डाउनलोड हो जाएगा।

स्टेकहोल्डर फीडबैक देने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको स्टेकहोल्डर फीडबैक के सेक्शन में जाना होगा।
  • इसके पश्चात आपको अपनी कैटेगरी अनुसार विकल्प का चयन करना होगा।
  • सभी कैटेगरी कुछ इस प्रकार है।
  • अपनी कैटेगरी अनुसार विकल्प का चयन करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको डिक्लेरेशन पर टिक करके नेक्स्ट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने फॉर्म खुलकर आएगा।
  • आपको इस फोन में पूछी गई सभी जानकारी जैसे कि आपका नाम, ई मेल आईडी, फोन नंबर, एड्रेस डिटेल आदि ध्यान पूर्वक दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप फीडबैक दे पाएंगे।

ग्रीवेंस दर्ज करने की प्रक्रिया

ग्रीवेंस दर्ज
  • इस पेज पर आपको निम्नलिखित जानकारी दर्ज करनी होगी।
    • ग्रीवेंस बाय
    • आर यू एनरोल्ड अंडर आयुष्मान भारत डिजिटल हेल्थ मिशन
    • मोबाइल नंबर
    • ईमेल आईडी
    • ग्रीवेंस रिलेटेड टू
    • ग्रीवेंस डिस्क्रिप्शन
  • अब आपको सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट अपलोड करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप ग्रीवेंस दर्ज कर पाएंगे।

ग्रीवेंस स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको आयुष्मान भारत डिजिटल हेल्थ मिशन ग्रीवेंस पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको ट्रैक यौर ग्रीवेंस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको एप्लीकेशन नंबर/मोबाइल नंबर/ईमेल आईडी दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको सर्च के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप ग्रीवेंस स्टेटस चेक कर सकेंगे।

कांटेक्ट करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको मिनिस्ट्री ऑफ हेल्थ एंड फैमिली वेलफेयर की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको कांटेक्ट अस के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
PM Health Card
  • जैसे ही आप इस ऑप्शन पर क्लिक करेंगे आपके सामने एक फॉर्म खुलकर आएगा।
  • आपको इस फॉर्म में अपना नाम, ईमेल आईडी, फोन नंबर, कैप्टचा कोड तथा मैसेज दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप कांटेक्ट कर पाएंगे।

Helpline Number

हमने आपको अपने इस लेख के माध्यम सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन के हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं या फिर आप उन्हें ईमेल लिख सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि संपर्क करने के बाद आपकी समस्या का समाधान हो जाएगा। नेशनल डिजिटल हेल्थ मिशन की ईमेल आईडी और टोल फ्री नंबर कुछ इस प्रकार है।

  • Email Id- [email protected]
  • Toll-Free Number- 1800114477
  • Address – National Health Authority 9th Floor, Tower-l, Jeevan Bharati Building, Connaught Place, New Delhi – 110 001

फीडबैक देने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको आयुष्मान भारत डिजिटल हेल्थ मिशन की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इसके पश्चात आपको फीडबैक के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने सीधा फॉर्म फिल कर आएगा।
  • आपको इस फॉर्म में पूछी गई निम्नलिखित जानकारी दर्ज करनी होगी।
    • जनरल डिटेल
    • यूजर/एनबीपीडीसीएल
    • फीडबैक/सजेशन डिटेल
  • अब आपको सपोर्टिंग डॉक्यूमेंट अपलोड करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप फीडबैक दे सकेंगे।

Conclusion

दोस्तों हमने अपने इस लेख के माध्यम से पीएम मोदी हेल्थ आईडी कार्ड 2021 से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते हैं। आप का कमेंट हमारे लिए बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। हम आपकी समस्या का समाधान करने की पूरी कोशिश करेंगे।

Leave a Comment