Pm National Bamboo Mission , प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बास मिशन ।

  • Post author:

|| National Bamboo Mission ,Pm National Bamboo mission , National Bamboo Mission Apply ,Pm National Bamboo Mission , नेशनल बम्बू मिशन , प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस Yojana क्या है ? , राष्ट्रीय बंबू मिशन ||

Pm National Bamboo Mission : प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस Yojana की शुरुआत की गई है , जैसा की आप लोगों को पता है भारत में प्लास्टिक काफी ज्यादा बढ़ गई है इसको रोकने के लिए Government ने प्लास्टिक को बंद भी कर दिया है लेकिन इसकी जरूरत लोगों को है जिस वजह से अभी भी प्लास्टिक का उपयोग किया जा रहा है , इस समस्या का समाधान Government ने राष्ट्रीय बांस Yojana को लाकर किया है । प्लास्टिक के उपयोग को कम करने या प्लास्टिक के उपयोग को पूरी तरह से खत्म करने के लिए बास बहुत अच्छा उपाय है बास के द्वारा बहुत सारे पदार्थ बनाए जा सकते हैं जिसका उपयोग प्लास्टिक से बने पदार्थों की जगह पर किया जा सकता है ।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस Yojana के तहत Government बांस के रोपण को प्रोत्साहित करेगी और बांस की खेती करने वाले किसानों को ₹120 प्रति पौधे के रूप में आर्थिक मदद के तौर पर दिया जाएगा । इस Yojana का नाम राष्ट्रीय बंबू मिशन ( Pm National Baboo Mission ) रखा गया है ।

इस Yojana के तहत Government किसानों को एक बांस का पौधा लगाने पर ₹120 का अनुदान प्रदान करेगी , अगर कोई व्यक्ति इसका बिजनेस करना चाहता है तो Government के द्वारा सब्सिडी के तौर पर अनुदान दिए जाने की व्यवस्था भी की गई है । इस Yojana का मुख्य उद्देश्य प्लास्टिक के इस्तेमाल को कम करना या फिर सिंगल यूज़ प्लास्टिक को पूरी तरह से बंद करना है ।

नोट :- खादी ग्रामोद्योग आयोग के द्वारा बांस की बोतल भी लांच की गई है यानी आप समझ सकते हैं बस एक ऐसा प्राकृतिक स्रोत बन चुका है जिसे हम बहुत सारे पदार्थ बना सकते हैं जहां पर हम प्लास्टिक का उपयोग करते हैं वहां पर बांस से भी काम किया जा सकता है ।

Pm National Bamboo Mission

इस पोस्ट में क्या है ?

राष्ट्रीय बंबू मिशन की आवश्यकता /National Bamboo Mission

अगर अब भारत Government के द्वारा चलाई गई राष्ट्रीय बंबू मिशन के तहत Benefits लेना चाहते हैं या फिर राष्ट्रीय बंबू मिशन में शामिल होना चाहते हैं तो इसकी भी Information हम आपको देने जा रहे हैं । अगर आप इस मिशन के तहत शामिल होकर अपना एक अच्छा बिजनेस सेटअप स्टार्ट करना चाहते हैं तो यह मिशन आप लोगों के लिए काफी अच्छा हो सकता है , क्योंकि यही एक ऐसा जरिया है जिसकी बदौलत प्लास्टिक के उपयोग को कम किया जा सकता है और इसके ही बदौलत प्लास्टिक के इस्तेमाल को पूरी तरह से खत्म भी की जा सकती है ।

प्लास्टिक का ज्यादा उपयोग हमारे पर्यावरण के लिए हानिकारक है Government राष्ट्रीय बंबू मिशन के तहत बांस की खेती और इसकी बिजनेस को काफी ज्यादा बढ़ावा दे रही है ।

Government के द्वारा बांस की खेती और बिजनेस को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक जिले में एक अधिकारी तैनात किया गया है बंबू मिशन एग्रीकल्चर , फॉरेस्ट और इंडस्ट्री विभाग को सौंपा गया है ।

PM National Bamboo Mission Highlights

Yojana का नाम राष्ट्रीय बंबू मिशन 
शुरू किया गया केंद्र Government के द्वारा
विभाग कृषि और किसान कल्याण विभाग, भारत Government
 Benefitsार्थी देश का हर एक किसान
Benefits किसानों को बांस की खेती करने के लिए प्रेरित करना और उन्हें  इसके लिए आर्थिक मदद उपलब्ध कराना
उद्देश्य दुनिया में बढ़ रहे हैं प्लास्टिक की खपत को कम करना और उसे बांस के साथ रिप्लेस करना
 State पूरे भारत में लागू
 स्टेटस चालू
Application की प्रक्रिया Online के माध्यम से
Official Website Click Here

बांस से क्या-क्या बनाए जा सकते हैं ?

आप लोगों को बहुत अच्छे से पता है कि बांस का हमारे दैनिक जीवन में कितना सारा उपयोग है अगर आप ग्रामीण इलाके से बिलॉन्ग करते हैं तो इसकी Information आपको काफी अच्छे से होगी ।
आजकल तो बांस के द्वारा पानी का बोतल भी बनाया जा रहा है , बांस के द्वारा काफी अच्छे अच्छे फर्नीचर भी बनाए जा रहे हैं , बांस के प्रयोग से हैंडीक्राफ्ट चीजें भी बनाई जा रही है और इसके प्रयोग से ज्वेलरी आदि जैसे सामान भी बनाए जा रहे हैं और प्लास्टिक का इस्तेमाल कम करने या प्लास्टिक के इस्तेमाल को खत्म करने के लिए बांस के द्वारा बनाई गई इन चीजों का इस्तेमाल भी बढ़ रहा है लोग इसे पसंद भी करना शुरू कर चुके हैं , ऐसे में राष्ट्रीय बंबू मिशन के साथ जुड़ना आपके लिए एक फायदे का सौदा हो सकता है । अभी बांस की खेती सबसे अधिक चीन और वियतनाम में की जा रही है लेकिन भारत Government के राष्ट्रीय बंबू मिशन के आ जाने से भारत में भी बांस की खेती कहीं ना कहीं आने वाले Time में काफी ज्यादा बढ़ेगी , चीन और वियतनाम के द्वारा बांस के बहुत सारे ऐसे प्रोडक्ट बनाए जाते हैं और अनेकों देशों में बेचे भी जाते हैं ।

Pm National Bamboo Mission , प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस Yojana क्या है

राष्ट्रीय बंबू मिशन के अंतर्गत सब्सिडी/ Subsidy In National Bamboo Mission

राष्ट्रीय बंबू मिशन के अंतर्गत Government के द्वारा किसानों को अलग-अलग Type से सब्सिडी देने का प्रावधान किया गया है ।

  • राष्ट्रीय बंबू मिशन के अंतर्गत एक आंकड़े के अनुसार 3 वर्षों में औसतन ₹240 प्रति प्लांट की लागत आएगी जिसके तहत Government के द्वारा ₹120 प्रति प्लांट किसानों को सब्सिडी के रूप में दिया जाएगा ।
  • नॉर्थ ईस्ट को छोड़कर अन्य इलाकाों में बांस की खेती के लिए Government 50 फ़ीसदी रकम चुकाएगी और 50 फ़ीसदी रकम किसान को अपनी ओर से देना होगा ।
  • प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बंबू Yojana ( Pm National Bamboo Mission ) के तहत हर एक जिले में नोडल अधिकारी बनाया गया है Yojana से संबंधित अधिक Information आप अपने नोडल अधिकारी से भी प्राप्त कर सकते हैं ।
  • किसानों को जो 50 फ़ीसदी की सब्सिडी दी जाएगी उसमें 60 फ़ीसदी की सब्सिडी केंद्र Government की और 40 फ़ीसदी की सब्सिडी State Government की होगी ! जबकि नॉर्थ ईस्ट के इलाकों के लिए यह रकम 60 फ़ीसदी Government और 40 फ़ीसदी किसान का रहेगा
  • नार्थ ईस्ट के किसानों के लिए जो 60 फ़ीसदी सब्सिडी दी जाएगी उसमें से 90 फ़ीसदी का भुगतान केंद्र Government के द्वारा और 10 फ़ीसदी का भुगतान State Government के द्वारा किया जाएगा ।

राष्ट्रीय बांस Yojana से की जा सकती हैं जबरदस्त कमाई । प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बंबू मिशन ।

जैसे कि अब तक आप लोगों को पता चल गया होगा आने वाले Time में बांस की मांग कितनी ज्यादा होने वाली है, तो इसमें कमाई का भी अच्छा मौका आप लोगों के सामने है। यदि बात की जाए तो एक हैक्टेयर में लगभग 15 से 2500 बांस के पौधे लगाए जा सकते हैं , एक से दूसरे पौधे की बीच की दूरी लगभग 2.5 मीटर की रखनी होती है इस हिसाब से देखा जाए तो एक हेक्टेयर में करीबन 1500 पौधे लगाए जा सकते हैं ( यह संख्या बढ़ाई भी जा सकती है अगर पौधों की बीच की दूरी कम कर दी जाए तो ) ।

एक पौधे से दूसरे पौधे की बीच की दूरी जो 2.5 मीटर की होती है इस बीच की दूरी में आप दूसरे फसल भी ऊगा जा सकते हैं और इससे भी कमाई की जा सकती है । इस हिसाब से अगर मुनाफे की बात करें तो 4 साल बाद 3 से 3.5 लाख रुपए की कमाई तो बहुत ही आसानी से हो जाएगी और आपने जो अतिरिक्त पौधे लगाए हैं उससे भी कमाई की जा सकती है । बांस की खेती में सबसे बड़ी यह बात होती है कि इसके अंतर्गत हर साल प्लांटेशन नहीं करनी होती है क्योंकि बांस की खेती लगभग 40 वर्ष तक चलती है ।

नोट :- अगर आप भी बांस की खेती करना चाहते हैं तो आज ही अपने नोडल ऑफिसर से संपर्क कर इसके लिए Application करें Government से सब्सिडी प्राप्त कर बांस की खेती शुरू कर दें ।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बंबू मिशन के लिए Online Application किस Type से करें ?

Farmer Registration Under National Bamboo Mission अगर आप भी प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बंबू मिशन के तहत अपना Registration करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको निम्नलिखित प्रक्रिया अपनानी होगी ।

Registration Under National Bamboo Mission

  • ◆ सबसे पहले आपको Pm National Bamboo Mission की आधिकारिक Website https://nbm.nic.in/ पर जाना होगा , Website पर जाने के लिए यहां Click करें ।
  • ◆ जैसे ही आप Website पर जाएंगे आपको सबसे ऊपर में Farmer Registration का एक Link दिखेगा ।
  • ◆ आपको Farmer Registration के Link पर Click करना है जैसे ही आप Click करेंगे आपके सामने Registration पेज खुल कर आ जाएगा जैसा नीचे दिखाया गया है ।

Pm National Bamboo Mission , प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बांस Yojana क्या है

  • ◆ Registration Form में आपको अपनी Information दर्ज करनी होगी सबसे पहले अपने State का चयन , उसके बाद अपने जिला का चयन , और तहसील का चयन करने के बाद आपको अपने गांव का चयन करना होगा । अब आपको फाइनेंसियल ईयर की Information दर्ज करनी होगी फार्मर का नाम दर्ज कर कुछ Information दर्ज करनी होगी ।
  • ईमेल आईडी, मोबाइल Number और किसान की कैटेगरी दर्ज कर पिन कोड डाल अपना Registration कर लेना होगा ।
  • Is Aadhaar card & Bank Account linked का एक Option देखने को मिला होगा अगर आपके आधार कार्ड के साथ आपका बैंक Account Link है तो उस पर आप को ठीक कर Submit कर देंगे ।
  • Form Submit करते ही आपका Registration राष्ट्रीय बंबू मिशन के अंतर्गत हो चुका है और अधिक Information के लिए आप संबंधित अधिकारी या नोडल ऑफिसर से भी संपर्क कर सकते हैं ।

FAQ Pm National Bamboo Mission 2021

Q 1. क्या बांस एक पेड़ है?

नहीं, बांस एक घास है, जो तेजी से बढ़ती है, और आमतौर पर लकड़ी की होती है।

Q 2. क्या बांस और रतन (बेंत) एक ही हैं?

नहीं, रतन और बांस अलग-अलग वनस्पति परिवारों से संबंधित हैं, अलग-अलग गुण हैं, और अलग-अलग तरीकों से प्रचारित और उगाए जाते हैं। रतन एक हथेली है, आमतौर पर एक पर्वतारोही और ठोस, जबकि बांस एक घास है, और आमतौर पर एक खोखला सिलेंडर है। बांस आसानी से और बहुत जल्दी बढ़ता है। बेंत एक पर्वतारोही है, इसके लिए एकांत वातावरण की आवश्यकता होती है, और इसकी गर्भधारण अवधि लंबी होती है। बाँस के सभी पौधे, जड़ से लेकर कल्म और पत्तियों तक, विभिन्न तरीकों से उपयोग किए जाते हैं। मूलतः रतन के पौधे के तने का ही प्रयोग किया जाता है।

Q 3. मैं बांस को फैलने से कैसे रोक सकता हूँ?

बांस एक प्राकृतिक प्रसारक है क्योंकि प्रकंद पोषक स्रोतों की ओर बढ़ते हैं। एक सरल रोकथाम विधि एक खाई खोदना है, अधिमानतः झुरमुट के मूल से कम से कम 3-4 मीटर की दूरी पर। खाई इतनी गहरी होनी चाहिए कि प्रकंद के फैलाव को रोक सके, सामान्यतया मध्यम व्यास की प्रजातियों के लिए कम से कम 90 सेमी। घर के बगीचों के लिए, पॉलीथिन शीट का उपयोग प्रकंद, या एक धातु अवरोध को घेरने के लिए किया जा सकता है।

Q 4. बांस की गोली क्या है?

बाँस की टहनी उस Time काटा गया एक युवा कल्म है, या मिट्टी की सतह के ऊपर दिखाई देने के कुछ ही Time बाद। इस अवस्था में यह खाने के लिए पर्याप्त नरम होता है। अकेला छोड़ दिया, यह तेजी से एक वुडी कल्म में विकसित होगा। बांस के अंकुर पोषण और फाइबर का एक मूल्यवान स्रोत हैं, और पूरी दुनिया में पसंद किए जाते हैं।

Q 5. क्या भारत में हर जगह बांस उगता है?

हां, बांस देश के हर State में और हर इलाका में, बेहद गर्म और ठंडे रेगिस्तानों को छोड़कर, उदाहरण के लिए पश्चिमी राजस्थान और लद्दाख में स्वाभाविक रूप से उगता है।

Q 6. भाग्यशाली बांस क्या है?

‘लकी बांस’ एक लोकप्रिय पौधा है, जो दुकानों और दुकानों में तेजी से उपलब्ध है। संयंत्र शायद पश्चिम अफ्रीकी मूल का है। इसे बनाए रखना आसान है। यह कुछ इंच पानी में मिट्टी के बिना पनपता है, और इसे बढ़ने के लिए केवल थोड़ी सी धूप की आवश्यकता होती है। हालांकि यह बांस नहीं है। यह लिली परिवार का एक सदस्य ड्रैसेनिया सैंडरियाना है।

Q 7. क्या मैं बांस की हेज उगा सकता हूं?

हां, बांस का उपयोग परंपरागत रूप से स्क्रीन और हेजेज और यहां तक ​​कि विंडब्रेक बनाने के लिए किया जाता रहा है। बंबुसा मल्टीप्लेक्स हेजेज के लिए एक अच्छा बांस है। यह एक मध्यम आकार का बाँस है जिसमें बारीकी से पतले कल्म होते हैं, और बहुत घनी वृद्धि की आदत होती है। इसे उगाना और बनाए रखना आसान है, और छंटाई के लिए अच्छी प्रतिक्रिया देता है।

ध्यान दें :- ऐसे ही केंद्र Government और State Government के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी Governmentी Yojanaओं की Information हम सबसे पहले अपने इस Website Sarkariresultscom.in के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे Website को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको यह Article पसंद आया है तो इसे Like और share जरूर करें ।

इस Article को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted by Amar Gupta

FAQ Pm National Bamboo Mission In HIndi

✔️ क्या बांस एक पेड़ है?

नहीं, बांस एक घास है, जो तेजी से बढ़ती है, और आमतौर पर लकड़ी की होती है।

✔️ क्या बांस और रतन (बेंत) एक ही हैं?

नहीं, रतन और बांस अलग-अलग वनस्पति परिवारों से संबंधित हैं, अलग-अलग गुण हैं, और अलग-अलग तरीकों से प्रचारित और उगाए जाते हैं। रतन एक हथेली है, आमतौर पर एक पर्वतारोही और ठोस, जबकि बांस एक घास है, और आमतौर पर एक खोखला सिलेंडर है। बांस आसानी से और बहुत जल्दी बढ़ता है। बेंत एक पर्वतारोही है, इसके लिए एकांत वातावरण की आवश्यकता होती है, और इसकी गर्भधारण अवधि लंबी होती है। बाँस के सभी पौधे, जड़ से लेकर कल्म और पत्तियों तक, विभिन्न तरीकों से उपयोग किए जाते हैं। मूलतः रतन के पौधे के तने का ही प्रयोग किया जाता है।

✔️ मैं बांस को फैलने से कैसे रोक सकता हूँ?

बांस एक प्राकृतिक प्रसारक है क्योंकि प्रकंद पोषक स्रोतों की ओर बढ़ते हैं। एक सरल रोकथाम विधि एक खाई खोदना है, अधिमानतः झुरमुट के मूल से कम से कम 3-4 मीटर की दूरी पर। खाई इतनी गहरी होनी चाहिए कि प्रकंद के फैलाव को रोक सके, सामान्यतया मध्यम व्यास की प्रजातियों के लिए कम से कम 90 सेमी। घर के बगीचों के लिए, पॉलीथिन शीट का उपयोग प्रकंद, या एक धातु अवरोध को घेरने के लिए किया जा सकता है।

✔️ क्या भारत में हर जगह बांस उगता है?

हां, बांस देश के हर State में और हर इलाका में, बेहद गर्म और ठंडे रेगिस्तानों को छोड़कर, उदाहरण के लिए पश्चिमी राजस्थान और लद्दाख में स्वाभाविक रूप से उगता है।

✔️ क्या मैं बांस की हेज उगा सकता हूं?

हां, बांस का उपयोग परंपरागत रूप से स्क्रीन और हेजेज और यहां तक ​​कि विंडब्रेक बनाने के लिए किया जाता रहा है। बंबुसा मल्टीप्लेक्स हेजेज के लिए एक अच्छा बांस है। यह एक मध्यम आकार का बाँस है जिसमें बारीकी से पतले कल्म होते हैं, और बहुत घनी वृद्धि की आदत होती है। इसे उगाना और बनाए रखना आसान है, और छंटाई के लिए अच्छी प्रतिक्रिया देता है।

  •  

    2.3K

    Shares

  •  
  • 652
  • 523
  •  
  • 523
  • 563
  •  

Leave a Reply